श्री सत्यनारायण आरती (हिन्दी) | Shri Satyanarayana Aarti In Hindi

Posted by Admin on May 25, 2012  • 

Download MP3 Listen More Bajrangbali Bhajan

 

Lyrics श्री सत्यनारायण आरती (हिन्दी) | Shri Satyanarayana Aarti In Hindi

!! जय लक्ष्मीरमणा, श्री जय लक्ष्मीरमणा, सत्यनारायण स्वामी, जनपातक हरणा, जय लक्ष्मीरमणा श्री जय लक्ष्मीरमणा !! !! रत्न जड़ित सिंहासन, अदभुत छवि राजे, नारद करत निराजन, घंटा ध्वनि बाजे, जय लक्ष्मीरमणा श्री जय लक्ष्मीरमणा !! !! प्रगट भये कलि कारण, द्विज को दरश दियो, बूढ़ो ब्राह्मण बनकर, कंचन महल कियो, जय लक्ष्मीरमणा श्री जय लक्ष्मीरमणा !! !! दुर्बल भील कठारो, इन पर कृपा करी, चंद्रचूड़ एक राजा, जिनकी विपत्ति हरी, जय लक्ष्मीरमणा श्री जय लक्ष्मीरमणा !! !! वैश्य मनोरथ पायो, श्रद्धा तज दीनी, सो फल भोग्यो प्रभुजी, फिर स्तुति कीनी, जय लक्ष्मीरमणा श्री जय लक्ष्मीरमणा !! !! भाव भक्ति के कारण छिन-छिन रूप धरयो, श्रद्धा धारण कीनी, तिनको काज सरयो, जय लक्ष्मीरमणा श्री जय लक्ष्मीरमणा !! !! ग्वाल बाल संग राजा, वन में भक्ति करी, मनवांछित फल दीन्हो, दीनदयाल हरी, जय लक्ष्मीरमणा श्री जय लक्ष्मीरमणा !! !! चढ़त प्रसाद सवाया, कदली फल मेवा, धूप दीप तुलसी से, राजी सत्यदेवा, जय लक्ष्मीरमणा श्री जय लक्ष्मीरमणा !! !! सत्यनारायण की आरति, जो कोई नर गावै, कहत शिवानंद स्वामी, मनवांछित फल पावै, जय लक्ष्मीरमण श्री जय लक्ष्मीरमणा !!